Those who opposed Ram temple, surgical strike, yoga day, are now against agriculture reforms: PM Modi

0
38



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कृषि विधेयक का विरोध करने वाले विपक्षी दलों पर निशाना साधा। प्रधानमंत्री मोदी ने नमामि गंगे परियोजना के तहत उत्तराखंड में आठ सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम ने कहा कि विपक्ष किसानों का अपमान कर रहा है। एमएसपी भी होगा और किसानों को भी आजादी होगी, कुछ लोग इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। उनकी काली कमाई का एक और जरिया बंद हो गया है। इन लोगों ने गरीबों के जन धन खाते खोलने का भी विरोध किया। जीएसटी का भी विरोध किया। हालांकि, जीएसटी के कारण, घरेलू सामानों पर या तो कोई कर नहीं है या पांच प्रतिशत से कम है। इन लोगों को जीएसटी से भी समस्या है। ये लोग न तो देश के साथ हैं, न युवाओं के साथ हैं और न ही किसान के साथ हैं।

पीएम मोदी के संबोधन की मुख्य विशेषताएं:

देश के किसानों, श्रमिकों और स्वास्थ्य से संबंधित प्रमुख सुधार किए गए हैं। ये सुधार देश के श्रमिकों को सशक्त करेंगे, देश के युवाओं को सशक्त करेंगे, देश की महिलाओं को सशक्त करेंगे, देश के किसानों को सशक्त करेंगे। लेकिन आज देश देख रहा है कि कैसे कुछ लोग सिर्फ विरोध के लिए विरोध कर रहे हैं।

आज जब केंद्र सरकार किसानों को उनका हक दे रही है, तब भी ये लोग विरोध पर उतर आए। ये लोग चाहते हैं कि देश के किसान अपनी उपज को खुले बाजार में न बेच सकें। ये लोग अब किसानों को उन सामानों और उपकरणों में आग लगाकर अपमानित कर रहे हैं जिनकी किसान पूजा करता है।

इस अवधि में, देश ने देखा कि कैसे डिजिटल इंडिया अभियान, जन धन बैंक खातों ने लोगों की मदद की है। जब हमारी सरकार ने यह काम शुरू किया, तो ये लोग उनका विरोध कर रहे थे। इन लोगों ने हमेशा देश के गरीबों के बैंक खाते खोलने का विरोध किया है, उन्हें भी डिजिटल लेनदेन करना चाहिए।

सालों तक ये लोग कहते रहे कि वे एमएसपी लागू करेंगे, लेकिन नहीं किया। हमारी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की इच्छा के अनुसार एमएसपी को लागू करने का काम किया। आज ये लोग एमएसपी को लेकर भी भ्रम फैला रहे हैं। देश में एमएसपी भी होगा और किसान को देश में कहीं भी फसल बेचने की आजादी भी होगी। लेकिन कुछ लोग इस स्वतंत्रता को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं।

यह 4 साल पहले का समय था जब देश के बहादुर सैनिकों ने सर्जिकल स्ट्राइक किया और आतंक के ठिकानों को नष्ट कर दिया। लेकिन ये लोग अपने सैनिकों से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहे थे। सर्जिकल स्ट्राइक का विरोध करने के साथ ही इन लोगों ने देश के सामने अपना इरादा साफ कर दिया है। ये लोग न तो किसान के साथ हैं, न युवाओं के साथ हैं और न ही बहादुर सैनिकों के साथ हैं।

हमारी सरकार ने सैनिकों को वन रैंक वन पेंशन का लाभ दिया, फिर उन्होंने भी इसका विरोध किया। जब पूरी दुनिया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मना रही थी और भारत की पहल की प्रशंसा कर रही थी, भारत में बैठे ये लोग इसका विरोध कर रहे थे। जब सरदार पटेल की सबसे ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया जा रहा था, तब भी ये लोग इसका विरोध कर रहे थे। किसी भी बड़े नेता ने आज तक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का दौरा नहीं किया है।

पिछले महीने, अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन किया गया है। ये लोग पहले सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर का विरोध कर रहे थे और फिर भूमिपूजन का विरोध करने लगे। हर बदलते तारीख के साथ इसका विरोध करने वाले ये लोग अप्रासंगिक होते जा रहे हैं। वायु सेना कहती रही कि हमें आधुनिक लड़ाकू विमान चाहिए, लेकिन इन लोगों ने कुछ नहीं किया। लेकिन जब हमारी सरकार ने सीधे फ्रांसीसी सरकार के साथ राफेल लड़ाकू विमान पर हस्ताक्षर किए, तो उन्हें एक समस्या हुई।





Source link

Leave a Reply